Friday, July 19, 2024
Home उत्तराखंड सैकड़ों युवाओं ने भरी हुंकार, राजधानी देहरादून होगा प्रदर्शन

सैकड़ों युवाओं ने भरी हुंकार, राजधानी देहरादून होगा प्रदर्शन

हल्द्वानी। उत्तराखंड में मूल निवास की परिभाषा 1950 करने की मांग न सिर्फ गढ़वाल बल्कि आप कुमाऊं में भी तूल पकडने लगी है, बताते चले की काफी लंबे समय से राज्य आंदोलनकारी सहित उत्तराखंड के तमाम संगठन मूल निवास व भू-कानून लागू करने की मांग उठा रहे हैं । हाल ही में सरकार द्वारा एक अधिसूचना जारी कर भी यह कहा गया कि जिनके पास मूल निवास है उन्हें स्थाई निवास की जरूरत नहीं है, साथ हि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी में यह कहा कि जल्द ही समिति बनाकर इस पर वार्ता की जाएगी।
परंतु आंदोलनकारी का स्पष्ट कहना है कि यह आंदोलन यथावत चलता रहेगा व ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोगों से देहरादून कुच करने की बात कही। इस दौरान समाजसेवी शैलेंद्र सिंह दानू ने कहा कि सरकार पहाड़ी राज्य के लोगों के हितों से खिलवाड़ कर रही है मूल निवास 1950 लागू कर सरकार को युवाओं व पहाड़ी संस्कृति के संवर्धन व संरक्षण के लिए तत्काल आवश्यक कदम उठाने चाहिए। वहीं समाजसेवी पीयूष जोशी ने कहा कि जिस प्रकार एससी,एसटी,ओबीसी को इस आधार पर आरक्षण मिलता है कि उनका वर्षों से शोषण किया गया था।
परंतु राज्य बनने के बाद सरकारी नौकरियों पर अन्य सभी जगह पर बाहरी राज्यों के लोगों ने डाका डालना शुरू कर दिया है,सरकार को चाहिए की मूल निवास की तिथि 1950 तत्काल की जाए व सरकारी नौकरियों मे मूल निवासियों को प्राथमिकता दी जाए,जिससे पहाड़ी राज्य की कल परिकल्पना का मकसद साकार हो सके। वही युवा पहाड़ी कार्तिक उपाध्याय ने कहा कि यह राज्य राज्य आंदोलनकारी की शहादत पर बना है व पहाड़ की जवानी व पहाड़ की कहानी कोई असल रूप में बयां करता है तो वह मूल निवास प्रमाण पत्र है जिसकी तिथि 1950 वर्ष से हो व राज्य की परिकल्पना के अनुसार तत्काल कार्यवाही करते हुए मूल निवास हेतु सरकार को अध्यादेश लाना चाहिए। बैठक में स्पष्ट तौर पर सरकार द्वारा हाल ही में जारी शासनादेश का भी जिक्र हुआ व कहा गया कि यह शासनादेश केवल दिखला म्वटि है क्योंकि यह प्रावधान तो पूर्व से ही मौजूद संशोधन में था, परंतु राज्य सरकार द्वारा इसको जारी करने का उद्देश्य केवल और केवल आंदोलन को कमजोर करना है। वहीे मुख्यमंत्री द्वारा समिति बनाने व संवाद के रास्ते खुले होने की बात पर भी उन्होंने कहा कि सरकार मूल निवास के मुद्दे पर बैक फुट पर है इसलिए बात करने की बात कर रही है परंतु उत्तराखंड के लोगों को अध्यादेश चाहिए समिति व वार्ता नहीं इसलिए सभी युवा आने वाली रैली में भारी से भारी संख्या में प्रतिभाग करेंगे।

RELATED ARTICLES

सीएम धामी के निर्देशों पर फेरी-ठेली वालों को जारी होंगे पहचान पत्र, अनिवार्य रूप से करने होंगे प्रदर्शित

देहरादून। फेरी-ठेली वालों को जल्द ही पहचान पत्र प्रदान किये जायेंगे। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देशों पर इस संबंध में शहरी विकास निदेशालय...

मॉर्डन मदरसे में किया गया वृक्षारोपण

देहरादून। राज्यसभा सांसद नरेश बंसल, बीस सूत्रीय कार्यक्रम के उपाध्यक्ष ज्योति प्रसाद गैरोला, उच्च शिक्षा उ॰ समिति के अध्यक्ष डॉ॰ देवेन्द्र भसीन, कैलाश पंत...

भाजपा ने केदारनाथ धाम को लेकर कांग्रेस की पदयात्रा को राजनीति से प्रेरित बताया

देहरादून। भाजपा ने श्री केदारनाथ धाम को लेकर कांग्रेस की पदयात्रा को राजनीति से प्रेरित बताया है। प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने कहा, धामों...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सीएम धामी के निर्देशों पर फेरी-ठेली वालों को जारी होंगे पहचान पत्र, अनिवार्य रूप से करने होंगे प्रदर्शित

देहरादून। फेरी-ठेली वालों को जल्द ही पहचान पत्र प्रदान किये जायेंगे। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देशों पर इस संबंध में शहरी विकास निदेशालय...

मॉर्डन मदरसे में किया गया वृक्षारोपण

देहरादून। राज्यसभा सांसद नरेश बंसल, बीस सूत्रीय कार्यक्रम के उपाध्यक्ष ज्योति प्रसाद गैरोला, उच्च शिक्षा उ॰ समिति के अध्यक्ष डॉ॰ देवेन्द्र भसीन, कैलाश पंत...

भाजपा ने केदारनाथ धाम को लेकर कांग्रेस की पदयात्रा को राजनीति से प्रेरित बताया

देहरादून। भाजपा ने श्री केदारनाथ धाम को लेकर कांग्रेस की पदयात्रा को राजनीति से प्रेरित बताया है। प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने कहा, धामों...

सीएम धामी ने राज्यपाल से की भेंट

देहरादून। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) से बुधवार को राजभवन में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शिष्टाचार भेंट की। इस अवसर पर...

Recent Comments