Friday, March 1, 2024
Home ब्लॉग तूफानों की स्पांसरशिप का उम्मीदभरा बाजार

तूफानों की स्पांसरशिप का उम्मीदभरा बाजार

आलोक पुराणिक

जवाद तूफान का नाम है, जवाद का अरबी भाषा में मतलब होता है, दयालु उदार।
तूफान भी उदार हो सकते हैं, नेता भी कम ठग हो सकते हैं, हत्यारे भी कम क्रूर हो सकते हैं। नाम में क्या रखा है-यूं शेक्सपीयर कह गये हैं, तूफान तूफान होता है। उसे उदार कह देने भर से वह उदार न हो जाता। हाल में चेन स्नैचिंग में धरे गये एक युवक नाम था-परहित प्रसाद-दूसरों के हित में कार्यरत।
तूफानों के नामों से भी कमाई का जुगाड़ हो सकता है, एमबीए में अध्ययनरत एक बालक ने अपने प्रोजेक्ट का शीर्षक यूं

रखा-तूफानों की स्पांसरशिप। उस प्रोजेक्ट के मुख्य अंश :-
हर जगह से कमाना चाहिए, तूफानों से भी कमाने की युक्ति संभव है। तूफान का नाम जवाद रखा गया, पहले आये एक तूफान का नाम हुदहुद रखा गया, अमेरिका के एक तूफान का नाम कैटरीना रखा गया। नाम में बहुत कुछ रखा है, नाम के लिए बंदा कई ऐसे काम करने को तैयार हो जाता है, जो उसे बदनाम तक कर सकते हैं, पर बदनाम होंगे, तो भी नाम होगा, तो ऐसे बदनामी-प्रूफ लोगों के लिए एक स्कीम लांच की जा सकती है कि जो भी अधिकतम भुगतान करेगा, तूफान का नाम उस पर रख दिया जायेगा। गौर से देखिये, बड़े-बड़े चोर ठग पर बहुत अमीर टाइप के कारोबारियों के निधन के बाद उनकी जो श्रद्धांजलि छपती है, उसमें उन्हें परोपकारी, महामानव टाइप घोषित किया जाता है। जिसकी जेब में रकम में नहीं है, वह ईमानदार बंदा बतौर मानव भी मुश्किल से जी पाता है। तो हमें तूफानों के नाम की स्पांसरशिप बेच देनी चाहिए। जैसे ही पता चले कोई और तूफान आने वाला है, वैसे ही फौरन नामों की नीलामी कर देनी चाहिए। टंटोमल या घंटोमल जो भी रकम दे, चकाचक, तूफान का नामकरण उसके नाम पर ही कर देना चाहिए।

कटारमल या जटारमल जो ज्यादा रकम दे, तूफान उसके नाम कर दो। इससे बहुत रकम जुटायी जा सकेगी, और उस रकम के एक अंश का इस्तेमाल तूफान से प्रभावित लोगों को राहत देने में भी किया जा सकता है। तूफानी तेजी वाला कोल्ड ड्रिंक भी किसी तूफान को स्पांसर कर सकता है। बाद में दावे प्रतिदावे भी हो सकते हैं कि हमारे वाला तूफान ज्यादा मारदार और धारदार था, तो कुल मिलाकर अधिकतम रकम तूफानों के स्पांसरों से खींची जा सकती है। कोई चाय कंपनी भी तूफान को स्पांसर करने में रुचि दिखा सकती है, तूफानी ताजगी मिलती है उस चाय से, इसी चाय ने फलां तूफान स्पांसर किया था।
संभव है कि कमाई बढ़ाने के लिए कुछ फर्जी टाइप के तूफान खड़े कर दिये जायें। कुछ टीवी एंकरों की मदद से नकली तूफान खड़े किये जा सकते हैं, टीवी एंकरों को नकली तूफान खड़े करने में परम महारथ हासिल है। फिर तूफानों को बेचना आसान हो जायेगा।

RELATED ARTICLES

कमाल ख़ान के नहीं होने का अर्थ

मैं पूछता हूँ तुझसे , बोल माँ वसुंधरे , तू अनमोल रत्न लीलती है किसलिए ? राजेश बादल कमाल ख़ान अब नहीं है। भरोसा नहीं होता। दुनिया...

देशप्रेमी की चेतावनी है कि गूगल मैप इस्तेमाल न करें

शमीम शर्मा आज मेरे ज़हन में उस नौजवान की छवि उभर रही है जो सडक़ किनारे नक्शे और कैलेंडरों के बंडल लिये बैठा रहा करता।...

डब्ल्यूएचओ की चेतावनी को गंभीरता से लें

लक्ष्मीकांता चावला भारत सरकार और विश्व के सभी देश विश्व स्वास्थ्य संगठन की सिफारिशों, सलाह और उसके द्वारा दी गई चेतावनी को बहुत गंभीरता से...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सरकार पर गुनहगारों को बचाने का आरोप, अंकिता के माता पिता का अनिश्चिकालीन धरना जारी

श्रीनगर। प्रदेश सरकार पर गुनहगारों को बचाने का आरोप लगाते हुए उत्तराखण्ड के चर्चिच हत्याकांड मामले में अंकिता भंडारी के माता-पिता अनिश्चितकालनी धरने पर...

आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने केंद्रों में जड़े ताले

रामनगर। पूरे प्रदेश में आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां अपनी मांगों को लेकर आन्दोलनरत है। इसी कड़ी में सरकार पर अपनी उपेक्षा का आरोप लगाते हुए रामनगर...

बिंदुखत्ता को राजस्व गांव घोषित करने की मांग को लेकर कांग्रेस ने किया विधानसभा कूच

देहरादून। नैनीताल जिले के बिंदुखत्ता को राजस्व गांव घोषित किए जाने सहित अपनी विभिन्न मांगों को लेकर कांग्रेस पार्टी ने इंडिया एलाइंस के सहयोगियों...

रीजनल पार्टी के नेतृत्व में कोविड कर्मचारियों का विधानसभा कूच, जमकर किया हंगामा

देहरादून। राष्ट्रवादी रीजनल पार्टी के नेतृत्व में कोविड-19 के बर्खास्त कर्मचारियों ने जमकर नारेबाजी करते हुए विधानसभा कूच किया लेकिन बैरिकेडिंग पर पहले से...

Recent Comments