Friday, June 21, 2024
Home उत्तराखंड एसजेवीएन का राजस्थान में 10000 मेगावाट सौर ऊर्जा विकसित करने का लक्ष्य

एसजेवीएन का राजस्थान में 10000 मेगावाट सौर ऊर्जा विकसित करने का लक्ष्य

देहरादून। अपने नवीकरणीय ऊर्जा मिशन में विशाल कदम बढ़ाते हुए एसजेवीएन ने राजस्थान में आगामी 5 वर्षों में 10000 मेगावाट सौर ऊर्जा परियोजनाओं को विकसित करने का आशय व्‍यक्‍त किया है। राजस्थान सरकार ने एसजेवीएन के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है तथा इस संबंध में शीघ्र ही एमओयू हस्ताक्षरित किए जाएंगे। इस संबंध में आज जयपुर में एक एमओयू/एलओआई साईनिंग समारोह में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की गरिमामयी उपस्थिति में एसजेवीएन के आशय पत्र (एलओआई) तथा आगामी स्वीकृति पत्र को एसजेवीएन के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, नन्‍द लाल शर्मा तथा राजस्‍थान सरकार के अतिरिक्त मुख्य सचिव, विद्युत, तथा सीएमडी, आरआरईसीएल, सुबोध अग्रवाल द्वारा आदान-प्रदान किया गया। इस अवसर पर एसजेवीएन तथा राजस्‍थान सरकार के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे। नन्‍द लाल शर्मा, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, एसजेवीएन ने अवगत कराया कि एसजेवीएन का राजस्थान रिन्‍यूएबल एनर्जी कारपोरेशन लिमिटेड द्वारा आबंटित लैंड बैंक्‍स पर 10,000 मेगावाट नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं/पार्कों की स्थापना करने का इरादा है। एसजेवीएन द्वारा इन परियोजनाओं के विकास पर 50,000 करोड़ रुपए के अनुमानित निवेश का प्रस्ताव है। वाणिज्यिक उत्पादन चरणबद्ध तरीके से आरंभ होगा तथा उत्‍पादित विद्युत को निकटतम सब-स्टेशनों के माध्यम से लाभार्थियों को उपलब्‍ध करवाया जाएगा। उत्पादित विद्युत के लिए बाजार में उपलब्ध प्रतिस्पर्धी टैरिफ आधारित अवसरों के माध्यम से विद्युत क्रय समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि इन परियोजनाओं से परियोजना क्षेत्रों में सामाजिक एवं आर्थिक विकास होगा तथा लगभग 15,000 लोगों के लिए प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रोजगार के अवसर भी उपलब्‍ध होंगे। नन्‍द लाल शर्मा ने बताया कि भारत सरकार की वर्ष 2030 तक गैर-जीवाश्म ईंधन स्रोतों से 500 गीगावॉट स्थापित क्षमता हासिल करने की प्रतिबद्धता से प्रेरित होकर, एसजेवीएन ने अपने बिजनेस मॉडल का पुनर्गठन किया है और अपने नवीकरणीय ऊर्जा पोर्टफोलियो को विकसित करने पर बल दिया है। “एसजेवीएन ने राजस्थान में सौर ऊर्जा परियोजनाओं को विकसित करने का प्रस्ताव दिया है क्योंकि राज्य में देश की सबसे बड़ी संभावित सौर विद्युत क्षमता है। राजस्‍थान राज्‍य उच्चतम सौर विकिरण (5.72 केडब्‍ल्‍यूएच/प्रति वर्ग मी. स्‍क्‍वेयर/प्रति दिन) प्राप्त करता है तथा एक वर्ष में 325 से अधिक धूप वाले दिनों की उच्चतम संख्या भी रखता है। सौर परियोजनाओं को विकसित करने के लिए यह सभी फैक्‍टर हमारे पक्ष में हैं।

RELATED ARTICLES

अधिकारी 100 दिनों के भीतर नेट बैंकिंग की दिशा में आगे बढ़ेः सहकारिता मंत्री

देहरादून। सहकारिता मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा है कि राज्य के सभी जिला सहकारी बैंक अधिकारी अगले 100 दिनों के भीतर नेट...

राज्यपाल ने काकड़ीघाट स्थित ज्ञान वृक्ष (पीपल) में जलाभिषेक किया व ध्यान भी लगाया

नैनीताल/अल्मोड़ा। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह(से नि) ने अल्मोड़ा के काकड़ीघाट स्थित ज्ञान वृक्ष (पीपल) में जलाभिषेक किया तथा ध्यान कक्ष में ध्यान भी...

निर्माण कार्यों में गुणवत्ता के साथ समझौता नहीं किया जाएगाः मंत्री सतपाल महाराज

हरिद्वार। जनपद प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज की अध्यक्षता में सीसीआर सभागार में जिला योजना समिति की बैठक आयोजित की गई। समिति द्वारा जिला योजना...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

अधिकारी 100 दिनों के भीतर नेट बैंकिंग की दिशा में आगे बढ़ेः सहकारिता मंत्री

देहरादून। सहकारिता मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा है कि राज्य के सभी जिला सहकारी बैंक अधिकारी अगले 100 दिनों के भीतर नेट...

राज्यपाल ने काकड़ीघाट स्थित ज्ञान वृक्ष (पीपल) में जलाभिषेक किया व ध्यान भी लगाया

नैनीताल/अल्मोड़ा। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह(से नि) ने अल्मोड़ा के काकड़ीघाट स्थित ज्ञान वृक्ष (पीपल) में जलाभिषेक किया तथा ध्यान कक्ष में ध्यान भी...

निर्माण कार्यों में गुणवत्ता के साथ समझौता नहीं किया जाएगाः मंत्री सतपाल महाराज

हरिद्वार। जनपद प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज की अध्यक्षता में सीसीआर सभागार में जिला योजना समिति की बैठक आयोजित की गई। समिति द्वारा जिला योजना...

डीएम की अध्यक्षता में हुई राजकीय जिला चिकित्सालय प्रबन्धन समिति की बैठक

देहरादून। जिलाधिकारी सोनिका की अध्यक्षता में जिलाधिकारी कैम्प कार्यालय में राजकीय जिला चिकित्सालय प्रबन्धन समिति, राजकीय सेन्ट मैरीज चिकित्सालय मसूरी, राजकीय संयुक्त चिकित्सालय प्रेमनगर...

Recent Comments