Friday, June 21, 2024
Home ब्लॉग हर्षोल्लास का पर्व-लोहडी

हर्षोल्लास का पर्व-लोहडी

कु. कृतिका खत्री

लोहडी का त्यौहार पंजाबियों तथा हरियाणवी लोगों का प्रमुख त्यौहार माना जाता है । यह लोहडी का त्यौहार पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, जम्मू कश्मीर और हिमाचल में धूम धाम तथा हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं । यह त्यौहार पौष मास की अंतिम रात्रि और मकर संक्राति की पूर्व संध्या को हर वर्ष मनाया जाता है । इसे सर्दियों के जाने और बसंत के आने के संकेत के रूप में भी देखा जाता है । लोहडी पर्व रबी की फसल की बुनाई और कटाई से जुड़ा हुआ है । किसान इस दिन रबी की फसल जैसे मक्का, तिल, गेहूं, सरसों, चना आदि को अग्नि को समर्पित करते है और भगवान का आभार प्रकट करते है । लोहडी की शाम को लोग प्यार और भाईचारे के साथ लोकगीत गाते है और किसी खुले स्थान पर लकडियों और उपलों से आग जलाकर उसकी परिक्रमा करते है । ढोल और नगाडों के साथ नृत्य, भांगडा और गिद्दा भी देखने को मिलता है । आग के चारों ओर बैठकर रेवडी, गजक और मूंगफलियों का आंनद लिया जाता है । और इन्हें प्रसाद के रूप में सभी लोगों को बांटा जाता है । जिस घर में नया नया विवाह या बच्चे का जन्म होता है, वहां खासतौर पर लोहड़ी धूमधाम से मनाई जाती है ।

लोहडी का त्यौहार दुल्ला भट्टी की कहानी से जुड़ा हुआ है । कहानी के अनुसार दुल्ला भट्टी बादशाह अकबर के शासनकाल के दौरान पंजाब में रहते थे । उन्होंने धनवान और जमीनदारों से धन लूटकर गरीबों में बांटने के साथ, जबरन रूप से बेची जा रही हिन्दू लडकियों को मुक्त करवाया । साथ ही उन्होंने हिन्दू अनुष्ठानों के साथ उन सभी लडकियों का विवाह हिन्दू लडकों से करवाने की व्यवस्था की और उन्हें दहेज भी प्रदान किया । जिस कारण वह पंजाब के लोगों के नायक बन गए । इसलिए आज भी लोहडी के गीतों में दुल्ला भट्टी का आभार व्यक्त करने के लिए उनका नाम अवश्य लिया जाता हैं ।एक अन्य कथा के अनुसार कंस ने भगवान श्रीकृष्ण को मारने के लिए लोहिता नामक राक्षसी को भेजा था, जिसका वध कृष्ण ने खेल खेल में कर दिया । लोहिता के वध का आनंद मनाने के लिए लोगों द्वारा लोहडी का त्यौहार मनाया गया ।लोहडी मनाने की मान्यता शिव और सती से भी जुड़ी है । एक कथा के अनुसार माता सती के आग में समर्पित होने के कारण लोहडी के दिन अग्नि जलाई जाती है ।

RELATED ARTICLES

कमाल ख़ान के नहीं होने का अर्थ

मैं पूछता हूँ तुझसे , बोल माँ वसुंधरे , तू अनमोल रत्न लीलती है किसलिए ? राजेश बादल कमाल ख़ान अब नहीं है। भरोसा नहीं होता। दुनिया...

देशप्रेमी की चेतावनी है कि गूगल मैप इस्तेमाल न करें

शमीम शर्मा आज मेरे ज़हन में उस नौजवान की छवि उभर रही है जो सडक़ किनारे नक्शे और कैलेंडरों के बंडल लिये बैठा रहा करता।...

डब्ल्यूएचओ की चेतावनी को गंभीरता से लें

लक्ष्मीकांता चावला भारत सरकार और विश्व के सभी देश विश्व स्वास्थ्य संगठन की सिफारिशों, सलाह और उसके द्वारा दी गई चेतावनी को बहुत गंभीरता से...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को दिये सीमांत क्षेत्रवासियों की समस्याओं के त्वरित निराकरण के निर्देश

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरूवार को सांय गुंजी में आयुक्त कुमांऊ, जिलाधिकारी पिथौरागढ़ के साथ सेना, आई.टी.बी.पी. तथा बॉर्डर रोड आर्गेनाइजेशन एवं...

केंद्रीय मंत्री यादव ने किया टिहरी और नरेंद्रनगर वन प्रभागों के वनाग्नि प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, विभाग की तैयारियों का जायजा लिया

देहरादून। भारत सरकार के पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री भूपेंद्र यादव आज 20 जून से दो दिवसीय उत्तराखंड दौरे पर हैं। इसी...

स्पीकर ऋतु खंडूड़ी ने शोध को व्यावहारिक अनुप्रयोगों में परिवर्तित करने के महत्व पर जोर दिया

देहरादून। विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खण्डूड़ी भूषण ने नेशनल कॉन्फ्रेंस ऑन लिविंग विद नेचर सॉइल, वाटर, और सोसाइटी इन इकोसिस्टम कंजर्वेशन हिमालयन कल्चरल सेंटर, देहरादून...

गोलीकांड के विरोध में चक्का जाम और बाजार बंद

देहरादून। नेहरूग्राम गोलीकांड को लेकर लोगों में भारी आक्रोश है। हत्या के विरोध में गुरुवार को दून बंद का आह्वान किया गया था। लोगों...

Recent Comments